loader

COVID-19 CORONAVIRUS PANDEMIC

Total cases

Total deaths

Total recovered

New cases

“There are Decades Where Nothing Happens, and There are Weeks Where Decades Happen”

img

The World Health Organization (WHO) determined that the outbreak of outbreak of Coronavirus (COVID-19) is a pandemic on 11 March 2020. COVID-19 is a respiratory illness that can spread from person to person. A novel coronavirus called SARS-CoV-2 is the cause of COVID-19 and the outbreak first recognized in China in December 2019.

COVID-19 is a disease caused by a new strain of coronavirus. ‘CO’ stands for corona, ‘VI’ for virus, and ‘D’ for disease. Formerly, this disease was referred to as ‘2019 novel coronavirus’ or ‘2019-nCoV.’The COVID-19 virus is a new virus linked to the same family of viruses as Severe Acute Respiratory Syndrome (SARS) and some types of common cold.

The clinical spectrum of COVID-19 ranges from mild disease with non-specific signs and symptoms of acute respiratory illness to severe pneumonia with respiratory failure and septic shock. The fever course among patients with COVID-19 is not fully understood; it may be prolonged and intermittent. Sore throat has also been reported in some patients early in the clinical course. Less commonly reported symptoms include sputum production, headache, hemoptysis, and diarrhea.

Based on what is currently known about SARS-CoV-2 and what is known about other coronaviruses, spread is thought to occur mostly from person-to-person via respiratory droplets among close contacts.

COVID-19 is a concern for college officials not only because of students, staff, faculty, and visitors traveling to and from COVID-19 affected areas, but also due to the potential for rapid transmission in a congregate setting within campus environments. These guidelines provide recommendations for the students, the campus itself, and members of the campus community.

Make no mistake: we have a long way to go

World Health Organization warned that the coronavirus crisis would not end any time soon.This virus will be with us for a long time.COVID-19 had spread its deadly clutches across the world. The pandemic has sparked not only a health emergency, but a global economic rout, with businesses struggling to survive, millions left jobless, and millions more facing starvation. There must be a new normal. A world that is safer, healthier and better prepared. Let's be more positive about things.

COVID-19 teach us about strengthening education systems?

  • Technology has stepped into the breach, and will continue to play a key role in educating future generations.
  • In a world where knowledge is a mouse-click away, the role of the educator must change too.
  • A big concern is how the current crisis may lead to even greater gaps in student learning. There are families that don’t have access to internet or devices at home and school systems that can’t provide that.

The majority of students in our educational institutions today are from a generation that has grown up in a truly globalized world. But the current generation is likely to be reflecting on their education as a result of a truly global pandemic, with many facing cancelled exams, sporting events and even graduation. This generation is defined by technology, where the terms FOBA (Fear of Being Alone) and FOMO (Fear of Missing Out) express their expectation of instant communication and feedback – effected through apps like Instant Messenger, Snapchat and WhatsApp.
The COVID-19 crisis may well change our world and our global outlook; it may also teach us about how education needs to change to be able to better prepare our young learners for what the future might hold.

COVID-19 teach us to Redefine the role of the educator

The notion of an educator as the knowledge-holder who imparts wisdom to their pupils is no longer fit for the purpose of a 21st-century education. With students being able to gain access to knowledge, and even learn a technical skill, through a few clicks on their phones, tablets and computers, we will need to redefine the role of the educator in the classroom and lecture theatre.
The COVID-19 pandemic has resulted in educational institutions across the world being compelled to suddenly harness and utilize the suite of available technological tools to create content for remote learning for students in all sectors.


ऑफिस जाने वालों को इन बातों का रखना होगा ध्‍यान, कोरोना को दूर भगाने में होंगी सहायक

रीजनल कॉलेज ऑफ़ पॉलिटेक्निक एवं लोहिया कॉलेज के कर्मचारीगण विशेष रूप से ध्यान दें-

पूरा विश्व इस समय संकट के बहुत बड़े गंभीर दौर से गुजर रहा है।आम तौर पर कभी जब कोई प्राकृतिक संकट आता है तो वो कुछ देशों या राज्यों तक ही सीमित रहता है।लेकिन इस बार ये संकट ऐसा है जिसने विश्व भर में पूरी मानवजाति को संकट में डाल दिया है। जब प्रथम विश्व युद्ध एवम् द्वितीय विश्व युद्ध हुआ था तब भी इतने देश युद्ध से प्रभावित नहीं हुए थे जितने आज कोरोना से हैं। वैश्विक महामारी कोरोना से निश्चिंत हो जाने की ये सोच सही नहीं है। इसलिए सजग रहना एवम् सतर्क रहना बहुत आवश्यक है। इस तरह की वैश्विक महामारी में एक ही मंत्र काम करता है ᱺ‐ ॥ हम स्वस्थ तो जग स्वस्थ ॥ । ऐसी स्थिति में जब इस बीमारी की कोई दवा नहीं है तो हमारा खुद का स्वस्थ बने रहना बहुत आवश्यक है। इस बीमारी से बचने और खुद के स्वस्थ बने रहने के लिए अनिवार्य है संयम। कोविड−19 जैसी महामारी को रोकने के लिए सिर्फ और सिर्फ एक ही उपाय है−सोशल डिस्टेंसिंग । इसे सोशल डिस्टेंसिंग से रोका जा सकता है भीड़ से बचना एवम् घर से बाहर निकलने से बचना। आजकल जिसे सोशल डिस्टेंसिंग कहा जा रहा हैए कोरोना वैश्विक महामारी के इस दौर में ये बहुत ज्यादा आवश्यक है। ऐसा इसलिए किया गया है जिससे वे आने जाने में होने वाले संक्रमण के खतरे से बचे रहें।इसके लिए हमें खुद को भी बदलना होगा और दूसरों को भी जागरुक करना होगा।

ऑफिस में भी साफ-सफाई का ख्याल रखना जरूरी है। हर कर्मचारी की भी जिम्मेदारी की है कि वह अपने लैपटॉप और डेस्क के आसपास सफाई रखे, ताकि कोरोना वायरस जैसे खतरे को टाला जा सके। काम की शुरुआत करने से पहले अपने बैठने की जगह को अच्छी तरह साफ करें या करवाएं। जिन-जिन चीजों को बार-बार छूते हैं जैसे लैपटॉप, कीबोर्ड, मोबाइल, डेस्क, रिमोट कंट्रोल, काउंटर टॉप और डोरनोब्स को साफ करवाएं। इन सभी चीजों को सेनिटाइजर या किसी अच्छे क्लीनिंग एजेंट से साफ करने के बाद ही काम शुरू करें। हर तीन घंटे में ऐसी साफ-सफाई जरूरी है।

वॉश रूम में साफ-सफाई का ख्याल रखें। सुनिश्चित करें कि बाथरूम और टॉयलेट की नियमित साफ-सफाई की जा रही है। काम करने के दौरान जब भी उठें, हाथ जरूर साफ करें। हाथ साबुन से धोएं और पानी नहीं है तो सेनिटाइजर का इस्तेमाल करें। कुछ भी खाने से पहले हाथ धोना बहुत जरूरी है। ऑफिस में मास्क पहनकर काम करें। कई कंपनियां अपनी तरफ से मास्क उपलब्ध करवा रही हैं। गीला होने पर मास्क तत्काल बदल दें। उपयोग किए जा चुके मास्क को दोबारा न लगाएं। इसलिए जो भी कोई अपने काम के लिए घर से बाहर पैर निकालेगा उसको कुछ बातों का बेहद कड़ाई से पालन करना होगा। ये हैं वो खास बातें ᱺ‐

  • घर से बाहर निकलने से पहले अपने मुंह को पूरी तरह से कवर करना न भूलें।
  • आप अपने मुंह को घर के बने मास्‍क से भी कवर कर सकते हैं। इसके अलावा इसके लिए कोई भी चुन्‍नी या गमछा इस्‍तेमाल कर सकते हैं। आपको बता दें कि पीएम मोदी ने कुछ दिन पहले जब देश को लॉकडाउन बढ़ाने को लेकर संबोधित किया था तब उन्‍होंने अपने मुंह पर गमछा ही बांधा हुआ था।
  • घर से बाहर निकलते समय अपने साथ साबुन या सेनेटाइजर ले जाना न भूलें।
  • रास्‍ते में किसी भी तरह की रेलिंग दरवाजे को न छूएं और यदि छूना ही पड़े तो हाथों को जरूर धो लें।
  • ध्‍यान रहे आपको कुछ-कुछ समय के अंतराल पर अपने हाथों को धोते रहना है। वो भी 20 सैकेंड तक लगातार।
  • ऑफिस या रास्‍ते में भी दूसरे व्‍यक्ति से दूरी बनाकर रखें। ऑफिस में अपना खाना अलग खाएं।
  • यदि आपको जुकाम या खांसी है तो किसी भी सूरत में ऑफिस न जाएं। यदि आपको ऑफिस पहुंचने के बाद इस तरह की परेशानी लगती है तो मुंह को बाजू से कवर करके ही खांसें या छीकें। ध्‍यान रहे इस बात की जानकारी विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन पहले भी कई बार दे चुका है। ऐसा करने को इसलिए कहा गया है क्‍योंकि इन जगहों पर हाथों का लगना लगभग न के ही बराबर होता है। खांसते या छींकते वक्‍त जो भी कपड़ा आप इस्‍तेमाल कर रहे हैं उसका प्रयोग दोबारा न करें। हो सके तो उसको तुरंत धो भी लें।
  • नोट लेने या देने के बाद हाथों को सैनिटाइज जरूर करें - दूसरों से नोट लेने या देने के बाद हाथों को अच्छी तरह धो लें। इस दौरान चेहरे को न छुएं।कागज के नोट पर हुए एक शोध में ये बात सामने आई है कि एक नोट में तकरीबन 26 हजार बैक्टीरिया होते हैं, जो इंसान के हाथों से शरीर में प्रवेश कर स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाते हैं। इसी की तर्ज पर ये अनुमान लगाया जा रहा है कि कोरोना वायरस भी कागज के नोट से तेजी से फैल सकता है।इसलिए कैश या सिक्के हाथ में लेने के बाद अपने चेहरे, मुंह, नाक, कान या आंख को ना छुएं। इसके बाद पहले उन्हें अपने हाथों को साबुन से धोना चाहिए। लिहाजा नोटों का इस्तेमाल करने के बाद हाथ जरूर धो लेना चाहिए।
  • अपने हाथों को मुंह पर लगाने से बचें।
  • फोन या दूसरी जरूरी चीजें जिनका आप ज्यादा इस्तेमाल करते हैं, उनमें भी सफाई का विशेष ध्यान रखें ।
  • खांसी या छींक आने के दौरान अपने मुंह को टिशू पेपर से कवर करें और उसे तुरंत किसी बंद डस्टबिन में फेंक दें ।
  • खांसी आते वक्त अगर आपके पास टिशू पेपर या रूमाल नहीं है तो अपने हाथ की बाजू से मुंह ढकें ।
  • खूब सारा पानी पिएं. लोगों से हाथ ना मिलाएं और किसी से बेवजह मिलने से बचें ।
  • अगर आपको बुखार, कफ और सांस लेने में दिक्कत जैसी समस्या है और आप पिछले 14 दिनों में इस वायरस से संक्रमित किसी व्यक्ति से मिले हों तो इसे नजरअंदाज ना करें. अपने डॉक्टर को तुरंत पूरी जानकारी दें ।
  • घर वापस आने पर तुंरत किसी से न मिलें। पहले हाथों और मुंह को अच्‍छे से धोएं और उसके बाद ही किसी से मिलें। कोशिश करें कि एक कपड़ा एक ही दिन पहनें।
  • ऑफिस जाने के लिए आप जिस भी वाहन का इस्‍तेमाल कर रहे हैं उसको भी साफ सुथरा रखें। यदि आप अपने साथ किसी दूसरे साथी को लिफ्ट दे रहे हैं तो भी उसे अपने बगल में न बिठाएं।

ये कुछ खास बातें हैं जिनका आपको ध्यान रखना है। भूले नहीं, सतर्कता फैलाएं, कोरोना नहीं।

यह वायरस सतह से फैलता है। इसलिए हाथ साबुन से धोते रहें। खासतौर पर कहीं बाहर से आएं तब अच्छे से हाथ धोए। संक्रमण से बचने के लिए डॉक्टर हर 20 मिनट में हाथ धोने की सलाह दे रहे हैं। इसके साथ ही अल्कोहलयुक्त हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें। साथ ही फोन व टैबलेट और हैंडल जैसे ʼहाई-टचʼ सतहों को साफ करें। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के अनुसार यदि इंसान अपने आस-पास साफ सफाई का ध्यान रखे एवम् संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में न आए और समय-समय पर नियमित रूप से हाथ धोए तो इस कोरोना वायरस से बचा जा सकता है।
मास्क का प्रयोग करें -कोरोना वायरस छींक के ज़रिए 6-8 मीटर से भी ज़्यादा दूरी तक जा सकता है । हमें मास्क पहनने की ज़रूरत है । विश्व स्वास्थ्य संगठन इस बात पर भी ज़ोर देता है कि मास्क पहनने का फ़ायदा तभी होगा जब इन्हें थोड़े समय में बदला जाए, ठीक से डिस्पोज़ किया जाए और बार-बार हाथ धोया जाए । कई देश लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करने और एक-दूसरे से कम से कम दो मीटर की दूरी बनाए रखने को कह रहे हैं । ये सलाह उन साक्ष्यों पर आधारित है जिनमें पाया गया है कि कोरोना वायरस नाक और मुंह के ज़रिए बाहर आने वाली बूंदों के ज़रिए फैलता है । ऐसा माना जाता है कि संक्रमित व्यक्ति के नाक और मुंह से निकलने वाली ज़्यादातर बूंदें या तो वाष्प बनकर उड़ जाती हैं या ज़मीन पर गिर जाती हैं।

एसिम्प्टोमैटिक कोरोना वायरस: एसिम्प्टोमैटिक यानी बिना लक्षण वाले मरीजों का मिलना बिना लक्षण वाले कोरोना मरीज। ये वो मरीज हैं जिनमें कोरोना का कोई लक्षण नहीं होता फिर भी ये कोरोना पॉजिटिव होते हैं। अफवाहों पर बिलकुल भी विश्वास न करें
लॉकडाउन के बीच सोशल मीडिया का इस्तेमाल बढ़ गया है। अफवाहों पर विश्वास बिलकुल न करें और कुछ भी सही मानकर बिना डॉक्टरी सलाह के उसका पालन न करें। देखा गया है कि कुछ लोगों ने वायरस से बचाव के लिए तरह-तरह के तेल को शरीर पर लगा रहे हैं। ऐसा न करें इससे वायरस से बचाव संभव नहीं है। कोई कह रहा है कि लहसुन खाने से यह वायरस नहीं फैलेगा तो किसी के मुताबिक गौमूत्र में इसका इलाज छुपा है। ऐसी ही बहुत-सी अफवाहें तेज़ी से लोगों के बीच फैल रही हैं।खाने-पीने वाली पोस्ट को सही मानकर घर पर कोई सामग्री खुद से तैयार न करें। इससे नुकसान हो सकता है।

>

Precautions to be taken:We Should Take to Maintain a Safe Workplace

We understand that this is a challenging situation at several levels.The welfare and safety of our community during this time is RCP's primary concern. Regional College of Polytechnic(RCP) has taken significant steps to protect the health and safety of its students, faculties, and staffs. Key considerations to prevent or reduce COVID-19 risks.
1. Encourage regular hand-washing or use of an alcohol rub by all students at the meeting or event.
2. Encourage participants to cover their face with the bend of their elbow or a tissue if they cough or sneeze. Supply tissues and closed bins to dispose of them in.
3. Provide contact details or a health hotline number that students can call for advice or to give information.
4. Display dispensers of alcohol-based hand rub prominently around the venue.
5. Arrange the seats so that participants are at least one meter apart.
6. Open windows and doors whenever possible to make sure the venue is well ventilated.
7. Retain the names and contact details of all visitors for at least one month. This will help public health authorities trace people who may have been exposed to COVID-19.
8. Consider issuing employees who are about to travel with small bottles (under 100 CL) of alcohol-based hand rub. This can facilitate regular hand-washing.
9. Encourage employeesto wash their hands regularly and stay at least one meter away from people who are coughing or sneezing.
10. Restrict visitors from entering the area of a suspected COVID-19 patient.

The coronavirus continues to expand globally and rapidly, with new developments and outbreaks happening almost daily. Accordingly, it is imperative for RCP's to communicate with the workforce, take health and safety precautions, monitor information about the virus, and plan and prepare for emergencies.

At this time, we have no confirmed case of COVID-19 on our campuses. We continue to remain vigilant by employing social distancing and following the guidelines issued by State and Central govt. These are challenging times and our first priority remains the health, safety, and well-being of our College community. We want to thank each of you for your help, understanding, and cooperation during these unprecedented times.

Corona Virus Symptoms

कोरोना वायरस का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है। इस वायरस को पहले कभी नहीं देखा गया है । इस वायरस का संक्रमण दिसंबर में चीन के वुहान में शुरू हुआ था । डब्लूएचओ के मुताबिक, बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ इसके लक्षण हैं । अब तक इस वायरस को फैलने से रोकने वाला कोई टीका नहीं बना है ।

img

Coughing And Sneezing

कफ और सूखी खांसीः पाया गया है कि कोरोना वायरस कफ होता है मगर संक्रमित व्यक्ति को सुखी खांसी आती है।

Read More
img

Hot Fever

तेज बुखार आनाः अगर किसी व्यक्ति को सुखी खांसी के साथ तेज बुखार है अगर तापमान 100 डिग्री फ़ारेनहाइट (37.7 डिग्री सेल्सियस) या इससे ऊपर पहुंचता है तो यह चिंता का विषय है।

Read More
img

Sore Throat

गले में खराश होना कोरोना वायरस का एक लक्षण हो सकता है। कोरोना वायरस के लक्षण 2 से 10 दिनों के बीच में दिखने शुरू होते हैं।

Read More
img

Strong Headache

फ्लू-कोल़्ड जैसे लक्षणः विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार कोरोना वायरस से संक्रमित होने पर कभी-कभी बुखार, खांसी, सांस में दिक्कत के अलावा फ्लू और कोल्ड जैसे लक्षण भी हो सकते हैं ।

Read More
img

Shortness Of Breath

सांस लेने में समस्याः कोरोना वायरस से संक्रमित होने के 5 दिनों के अंदर व्यक्ति को सांस लेने में समस्या हो सकती है। सांस लेने की समस्या दरअसल फेफड़ो में फैलते कफ के कारण होती है।

Read More
img

Confusion

सूंघने और स्वाद की क्षमता में कमीः बहुत से मामलों में पाया गया है कि कोरोना से संक्रमित लोगों को सूंघने और स्वाद की क्षमता में कमी आती है.

Read More

Important Percautions

कोरोना वायरस लगातार घातक होता जा रहा है। कोरोना वायरस एक तरह का वायरल इन्फेक्शन है। इसकी कोई दवा नहीं है, लेकिन सावधानी बरतकर इसके संक्रमण से बचा जा सकता है। अभी तक कोरोना वायरस से बचाव का वैक्सीन नहीं बना है लेकिन अमेरिका सहित अन्य देशों के डॉक्टर्स लगातार रिसर्च कर रहे हैं। उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही इसके वैक्सीन बनकर तैयार हो जाएगा।

img
Stay at Home

Don’t be a super-spreader. Stay home. Stay alive.The corona is at your doorstep.

img
Wear Mask

Everyone should wear a cloth face cover when they have to go out in public

img
Wash Your Hands

Wash your hands often with soap and water for at least 20 seconds.

img
Well Done Cooking

Cooking at 165 degrees is a universal temperature which will protect you from germs.

img
Seek for a Doctor

If symptoms of a coronavirus feel worse than a common cold, contact your doctor.

img
Avoid Crowed Places

Keeping space between yourself and other people outside of your home.

Important Percautions

Coronavirus disease (COVID-19) is an infectious disease caused by a newly discovered coronavirus. There is currently no vaccine to prevent coronavirus disease 2019 (COVID-19).The best way to prevent illness is to avoid being exposed to this virus.

Things You Should Do

image

Wash Your Hand For 20 Sec

Hand touch many surfaces and can pick up virus. So, hands can transfer the virus to your eyes, nose.

image

Wear Mask All The Time

Regularly and thoroughly clean your hands with an alcohol-based hand rub or wash them with soap.

image

Avoid Contact With Animals

Coronaviruses are viruses that circulate among animals with some of them also known to infect humans.

image

Always Cover Your Sneeze

Use a tissue, or your bent elbow, to cover your cough -- this keeps virus-infected droplets away from those around you. If you use a tissue, dispose of it quickly and safely.

Things You Shouldn’t Do

image

Avoid Crowded Places(SOCIAL DISTANCING)

Stay at least 1 metre away from people who're coughing or sneezing to avoid inhaling droplets.DO practice “social distancing”:

image

Don't Handshake

Handshaking is an efficient way to spread germs, since we touch our faces multiple times every hour.

image

Don't Touch Your Face

If the virus has contaminated your hands after contact with another surface, it can infect you through your eyes, nose or mouth.

image

Avoid Traveling

DON’T travel if you have a fever. If you get sick on flight, tell crew immediately. When you get home, contact a health professional.

Protect yourself and Others

line

together we’ll fight...

#Don't be Scared
#Be Prepared.

#Stay HomeStay Safe

Covid-19 protection FAQ

title